नई दिल्ली 12 अक्टूबर: भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान कार्लटन चैपमैन (Carlton Chapman) का सोमवार को बेंगलुरू में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. वो 49 साल के थे. चैपमैन को रविवार की रात को बेंगलुरू में अस्पताल में भर्ती कराया गया था और सोमवार सुबह उन्होंने आखिरी सांस ली.

एक वक्त चैपमैन के साथी रहे ब्रूनो कुटिन्हो ने कहा, ‘मुझे बेंगलुरू से उनके एक दोस्त में फोन पर बताया कि चैपमैन अब हमारे बीच नहीं रहे. उनका आज तड़के निधन हो गया. वो हमेशा खुश रहने वाले इंसान थे और दूसरों की मदद के लिये तैयार रहते थे.’

मिडफील्डर चैपमैन 1995 से 2001 तक भारत की तरफ से खेले थे. उनकी कप्तानी में भारतीय टीम ने 1997 में सैफ कप (SAF Cup) जीता था. क्लब लेवल पर उन्होंने ईस्ट बंगाल (East Bengal) और जेसीटी मिल्स जैसी टीमों को रिप्रेजेंट किया. टाटा फुटबॉल एकेडमी से निकले चैपमैन 1993 में ईस्ट बंगाल से जुड़े थे और उन्होंने उस साल एशियाई कप विनर्स कप के पहले दौर के मैच में इराकी क्लब अल जावरा के खिलाफ टीम की 6-2 से जीत में हैट्रिक बनाई थी.

लेकिन उन्होंने अपना बेस्ट प्रदर्शन जेसीटी के साथ किया जिससे वो 1995 में जुड़े थे. चैपमैन ने पंजाब स्थित क्लब की तरफ से 14 ट्रॉफियां जीती थी. इनमें 1996-97 में पहली राष्ट्रीय फुटबॉल लीग (NFL) भी शामिल है. उन्होंने आईएम विजयन (IM Vijayan) और बाईचुंग भूटिया (Bhaichung Bhutia) के साथ मजबूत कॉम्बिनेशन तैयार किया था.

चैपमैन बाद में एफसी कोच्चि से जुड़े लेकिन एक सीजन बाद ही 1998 में ईस्ट बंगाल से जुड़ गए थे. ईस्ट बंगाल ने उनकी अगुवाई में 2001 में एनएफएल जीता था. उन्होंने 2001 में पेशेवर फुटबॉल से संन्यास ले लिया था. इसके बाद वह कई अलग-अलग क्लब के कोच भी रहे.