खेलबिहार न्यूज़

पटना 29 अक्टूबर: बीसीए संचालन समिति की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। यह बैठक बीसीए सचिव के आवासीय कार्यालय पर संचालन समिति के चेयरमैन प्रेम रंजन पटेल की अध्यक्षता मे सम्पन्न हुई। इस बैठक मे संचालन समिति के सदस्य आशुतोष कुमार झा, मुनेन्द्र कुमार सिंह के अलावा बीसीए के क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी के चेयरमैन एल पी वर्मा भी उपस्थित रहे। 

बैठक की सम्पूर्ण जानकारी देते हुए बीसीए (सचिव गुट) के मीडिया कमेटी के चेयरमैन सुरेश मिश्रा ने बताया कि बैठक में 14 सितंबर को हुई संचालन समिति की बैठक मे हुए निर्णय को संपुष्ट किया गया। बीसीसीआई के द्वारा जनवरी 2021 से घरेलू टूर्नामेंटों को आयोजित करने की संभावनाओं पर चर्चा के बाद कई चरणों में कंडिशनिंग कैंप लगाने का निर्णय लिया गया। कैंप के लिए स्थल का चयन कर तिथि की घोषणा शीघ्र की जाएगी। इस कैंप के प्रथम चरण में विगत वर्ष में बीसीसीआई से निबंधित खिलाड़ियों को शामिल किया जाएगा।

बिहार क्रिकेट लीग के आयोजन पर उपजे विवादों और युवा खेल फाउंडेसन के द्वारा सचिव को  दिये गए वकालतन नोटिस के कारणों की समीक्षा की गई। सचिव ने पूर्व की गोपाल बोहरा की अध्यक्षता वाली कमेटी की ऑफ मैनेजमेंट के बैठक में युवा खेल फाउंडेशन को बीसीएल कराने की अनुमति दिये जाने तथा, इस संस्था के द्वारा पाँच लाख रुपए बीसीए के खाते मे दिये जाने की जानकारी दी और बताया की वर्तमान कमेटी ऑफ मैनेजमेंट के ग्रुप पर बहुमत से युवा खेल फाउंडेशन के द्वारा बीसीएल आयोजित करने पर सहमति दी गई थी, जिस निर्णय से युवा खेल फाउंडेशन को अवगत करा दिया गया था।

इस मामले में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया की युवा खेल फाउंडेशन हीं बीसीएल का आयोजन करेगी, अगर किसी दूसरे व्यक्ति के द्वारा इस प्रकार का आयोजन किया जाता है, तो उस व्यक्ति / संस्था पर युवा खेल फाउंडेशन कानूनी कारवाई करने को स्वतंत्र होगी।

क्रिकेट को सुचारु रूप से चलाने के लिए कई कमेटीयों का गठन किया गया।

बीसीए की वर्तमान वित्तीय स्थिति पर चर्चा के बाद निर्णय लिया गया की गतिविधियों को संचालित करने के लिए जिला से लेकर राज्य मुख्यालय तक छोटे बड़े प्रायोजकों और विज्ञापन दाताओं से संपर्क कर राशि की व्यवस्था की जाएगी। वित्तीय मामले पर चर्चा करते हुए निर्णय लिया गया की प्रशासकों के बीच अगर कोई विवाद होता है, तो उसपर बीसीसीआई तथा प्रायोजकों से बीसीए को प्राप्त धन राशि खर्च नहीं की जाएगी, क्योकि इस राशि का क्रिकेट के विकास के लिए खर्च किए जाने का प्रावधान है।

बैठक मे क्रिकेटिंग एडवाइजरी कमेटी(सीएसी) के चेयरमैन एल पी वर्मा ने सीएसी की बैठक 1 नवंबर को आहुत होने की जानकारी दी। बैठक में जांच कमेटी की बैठक 31 अक्तूबर को आहुत होने की जानकारी सचिव के द्वारा दी गई। कोरोना की स्थिति में लगातार नियंत्रण की खबर की समीक्षा करते हुए बीसीए का प्रस्तावित एस जी एम चुनाव के बाद आहुत किए जाने का निर्णय लिया गया।।