संवाद: खेलमीडिया यूपी 

आगरा 16 जुलाई: उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ के द्वारा हाल में आगरा क्रिकेट संघ की जगह एक नई जिला इकाई जिला क्रिकेट संघ आगरा को अस्तित्व में लगा गया था। जिसके बाद आगरा क्रिकेट संघ के सचिव जीडी शर्मा ने एक याचिका न्यायालय में दायर किया था जिस पर इलाहाबाद कोर्ट ने बीते 14 जुलाई को सुनवाई करते हुए एक बार फिर से आगरा क्रिकेट संघ को यूपीसीए में वोट करने का अधिकार दे दिया है।

जिसके बाद आगरा क्रिकेट संघ के सचिव जीडी शर्मा ने कहा” वह यूपीसीए की अगली बैठक में आगरा को फिर से एक मंडल के रूप बनाने का पूरा प्रयास करेंगे और शहर के खिलाड़ियों का पलायन रोकने की व्यवस्था भी करेंगे। सीनियर खिलाड़ियों को यूपीसीए टेक्निकल टीम में जगह दिलाने का कार्य करेंगे। इसके अलावे शहर में खिलाड़ियों को अच्छी व्यवस्था वाला क्रिकेट एकेडमी व लम्बे समय से बंद पड़ी टूर्नामेंट को भी शुरू करवाया जायेगा।

इसके बाद आगरा में बोर्ड ट्रॉफी मैचों का सूखा खत्म होने की उम्मीद बढ़ गई है। इस आदेश पर आगरा कॉलेज के पूर्व प्रधानचार्य मनोज रावत ने कहा” आगरा जिला क्रिकेट संघ को उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के चुनाव में भागीदारी करने के लिए वोट देने का अधिकार जो दिया है वह सराहनीय है माननीय न्यायालय ने यह सही माना है और इससे प्रतीत होता है कि पहले वाला संघ उचित था इससे आगरा जिला आगरा शहर में क्रिकेट को बढ़ावा मिलेगा जो गतिविधियां रुक गई थी।

वह पुणे शुरू होंगी और नए खिलाड़ी हमारे सामने आएंगे और यहीं से चयनित होकर प्रदेश स्तर पर तथा अन्य ट्रॉफी मैच खेल सकते हैं जब उत्साह बनता है एक दूसरे को देख कर नए खिलाड़ी सामने आते हैं यह आगरा के लिए बहुत अच्छी खबर है पर मेरा मानना है की क्रिकेट या कोई भी खेल हो उसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए पूर्ण सद्भाव एवं राष्ट्र भावना के साथ केवल खेलों को आगे ले जाने का प्रयास होना चाहिए मैं उम्मीद करता हूं कि आगे आने वाला समय क्रिकेट खेलों के लिए उपयुक्त होगा और अच्छे खिलाड़ी यहां से मिलेंगे

धीरज शर्मा पूर्व रणजी खिलाडी ने कहा ” आगरा क्रिकेट एसोसिएशन के दोबारा बहाल होने से आगरा में क्रिकेट की गतिविधि में बहुत तेजी आएगी एवं पूर्व की भांति बोर्ड ट्रॉफी के मैच आगरा में आयोजित किए जा सकेंगे.. एवं प्रयास किया जाएगा के आगरा के खिलाड़ियों का प्रतिनिधित्व उत्तर प्रदेश की टीम में हो