पटना 17 जुलाई: क्रीड़ा भारती के मांगों पर विचार कर बिहार सरकार ने कैबिनेट की बैठक में खेल विश्वविद्यालय की स्थापना पर सहमति दे दी है ।आपको बता दे कि कुछ दिन पहले बिहार की उपमुख्यमंत्री से मुलाकात कर क्रीड़ा भारती उतर बिहार प्रांत के सदस्यों के ज्ञापन सोपते हुई इसकी मांग की थी।

क्रीड़ा भारती की ओर से उत्तर बिहार प्रांत मंत्री अमित कुमार ठाकुर ने बिहार सरकार के इस कदम का स्वागत करते हुए कहा कि अब बिहार में भी खेल प्रतिभाओं को उच्च शिक्षा के अवसर मिलेंगे । शारीरिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए अब बिहार के खिलाडियों को दूसरे राज्यों की ओर नहीं देखना होगा ।

उन्होंने विशेष रूप से बिहार के खेल मंत्री श्रीमान आलोक रंजनजी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सहरसा एवं बेगूसराय में व्यक्तिगत रूप से भेंट कर उनसे खेल नीति एवं खेल विश्वविद्यालय के लिए आग्रह किया था । प्रांत मंत्री ने उत्तर बिहार प्रांत में भी खेल विश्वविद्यालय की स्थापना की मांग को दोहराया ।वहीं प्रांत अध्यक्ष श्रीमान चंद्रशेखर अधिकारी ने बताया कि
NDA सरकार के शासन की यह बहुत बडी उपलब्धि है ।

क्रीड़ा भारती ने खेल एवं खिलाड़ियों के उत्थान के लिए उप मुख्यमंत्री को सौंपा ज्ञापन।

बरसो से क्रीड़ा भारती की यह मांग भी थी कि बिहार में खेल विश्व विद्यालय बने ,जिसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं खेल मंत्री श्रीमान आलोक रंजन जी ने पूरा किया । उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि बिहार के सभी जिलों में खेल महाविद्यालय स्थापित करने का आग्रह किया ।

प्रांत उपाध्यक्ष रोशन सिंह धोनी ने बिहार सरकार को खेल विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि बिहार में भी खेल वातावरण का निर्माण हो सकेगा ।

वहीं प्रांत सह मंत्री नवीन सिंह परमार ने कहा कि बिहार सरकार ने देर से ही सही लेकिन जनहित में सही कदम उठाया है । उन्होंने इसके लिए बिहार सरकार का आभार जताया ।